नीरव मोदी जैसे अरबपति आखिर कहां खर्च करते हैं अपने पैसे | Myrichbeauty.com - Beauty Tips In Hindi

सीबीआई ने रविवार को अरबपति आभूषण कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी से जुड़ी हजारों करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी के केंद्र में रही पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की ब्रैडी रोड शाखा में सघन तलाशी ली थी जिसके बाद सोमवार को यह ब्रांच सील कर दी गई्. बैंक की शाखा सील करने के बाद यहां का सभी कामकाज ठप पड़ गया है और कई कर्मचारियों को बैंक की शाखा के बाहर अपने बॉस के अगले आदेश का इंतजार करते भी देखा गया. यह कार्यवाही सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा घोटाले में आरोपी बैंक के दो पूर्व कर्मचारियों सहित तीन आरोपियों की पुलिस हिरासत तीन मार्च तक बढ़ाने के फैसले के दो दिन बाद हुई है.

पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी की फरारी से चर्चा का बाजार फिर से गर्म हो गया है कि जालसाज, धोखेबाज, आतंकवादी छिपने के लिए अक्सर पश्चिमी यूरोप, उत्तरी अमेरिका और खाड़ी देशों ही क्यों भागते हैं। दरअसल, यहां के रेजिडेंसी लॉ उदार हैं, टैक्सेशन स्ट्रक्चर भी सॉफ्ट है, राजनीतिक शरण से जुड़े नियम सरल हैं और ये लोग वहां अक्सर मानवाधिकार और राइट टू फ्रीडम की आड़ लेते हैं। इनकी लिस्ट बड़ी लंबी है और इसमें कनाडा और ब्रिटेन चले गए सिख उग्रवादियों, भोपाल गैस लीक कांड के बाद भागे वॉरेन एंडरसन, ब्रिटेन में आसरा लिए ललित मोदी और विजय माल्या जैसों के नाम शामिल हैं। इस लिस्ट में देश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने वाले दाऊद इब्राहिम और कश्मीर के आतंकवादी गिरोहों के सरगना और उनके समर्थक भी हैं।

हाल के वर्षों सहित पिछले एक दशक में यूएई, थाईलैंड और बांग्लादेश जैसे देशों ने भारत में आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने और आपराधिक साजिश करने के आरोपियों को भारत लाने में सरकार की मदद की है लेकिन हाई प्रोफाइल अपराधियों को भारत प्रत्यर्पित किए जाने के मामले बहुत कम हुए हैं। भारत में प्रत्यर्पण कभी आसान नहीं रहा है क्योंकि गुनाहगारों को स्थानीय कानूनों के तहत राहत मिल जाती है और कुछ मामलों में ऐसे लोगों को स्थानीय सरकारें सुरक्षा देती हैं।

बेल्जियम में भारतीय समुदाय के सदस्यों ने पहचान जाहिर नहीं किए जाने की शर्त पर ईटी को बताया कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी भारत से भागने की योजना बना रहे थे और पिछले दो साल से डॉक्युमेंट्स बनाने की तैयारी में जुटे थे। माना जा रहा है कि इन दोनों ने खाड़ी देशों में कई प्रॉपर्टीज खरीदी हैं। हालांकि भारत सरकार मोदी और चोकसी को लाने की प्रक्रिया उनका पासपोर्ट निलंबित होने के बाद अब जल्द शुरू कर सकती है। बेल्जियम दो मौकों पर आपराधिक गतिविधियों में शामिल कुछ भारतीय नागरिकों को भारत भेज चुका है।

कुछ ऐसे भी देश हैं, जहां मौत की सजा पर पाबंदी है। अगर कोई भगोड़ा ऐसे देश में शरण लेता है और वहां की सरकार सोचती है कि उसे भारत भेजने पर मौत की सजा मिल सकती है, तो वह इसके लिए मना कर देगी। ब्रिटेन में भारत के बहुत से भगोड़े हैं और वहां अपने अधिकार क्षेत्र में प्रवेश करने वाले शख्स को कानूनी तौर सुरक्षा देने का नियम है।

सीबीआई ने रविवार को अरबपति आभूषण कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी से जुड़ी हजारों करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी के केंद्र में रही पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की ब्रैडी रोड शाखा में सघन तलाशी ली थी जिसके बाद सोमवार को यह ब्रांच सील कर दी गई्. बैंक की शाखा सील करने के बाद यहां का सभी कामकाज ठप पड़ गया है और कई कर्मचारियों को बैंक की शाखा के बाहर अपने बॉस के अगले आदेश का इंतजार करते भी देखा गया. यह कार्यवाही सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा घोटाले में आरोपी बैंक के दो पूर्व कर्मचारियों सहित तीन आरोपियों की पुलिस हिरासत तीन मार्च तक बढ़ाने के फैसले के दो दिन बाद हुई है.

इन आरोपियों में पीएनबी के सेवानिवृत्त उपप्रबंधक गोकुलनाथ शेट्टी, सिंगल विंडो ऑपरेटर मनोज खराट और घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता हेमंत भटट् हैं. इस मामले में सीबीआई ने मुंबई और रायगढ़ के अलग-अलग इलाकों से इन तीनों को सबसे पहले गिरफ्तार किया था. अधिकारियों ने संकेत दिए हैं कि इस संबंध में अन्य गिरफ्तारियां जल्द ही हो सकती हैं.

जहां देश में एक बड़ा तबका अपनी रोजी रोटी के लिए दिन रात मेहनत कर रहा है, वहीं एक ऐसा भी तबका है, जिसके पास अथाह दौलत है. हाल ही में PNB Scam में फंसे Nirav Modi भी ऐसे ही एक अरबपति हैं, जिनके पास पैसों की कोई कमी नहीं है. जब भी कभी हम ऐसे लोगों को देखते हैं तो मन में एक सवाल उठता है कि जिनके पास सब कुछ है, आखिर वह अपने पैसों से क्या खरीदते होंगे? आखिर ये अरबपति लोग अपने पैसों को कहां खर्च करते होंगे? क्या ये लोग महंगे-महंगे होटलों में जाकर खाना खाते होंगे? महिलाएं अपना अधिकतर समय स्पा और पार्लर में बिताती होंगी? जिन कपड़ों और जूतों को एक बार पहन लेती होंगी क्या उसे दोबारा हाथ नहीं लगाती होंगी?

कपड़ों पर खर्च होता है सबसे अधिक पैसा

रिपोर्ट के अनुसार अरबपति लोग अपना अधिकतर पैसा (16%) कपड़ों और एसेसरीज में खर्च करते हैं. ये अरबपति लोग दूसरे नंबर पर छुट्टियां मनाने के लिए अपना सबसे अधिक पैसा (13%) खर्च करते हैं. वहीं तीसरा नंबर आता है ज्वैलरी का, जिस पर ये अरबपति लोग अपनी दौलत का करीब 12% हिस्सा खर्च करते हैं. इसके अलावा 12% पैसा ऑटोमोबाइल पर, 9% पैसा घर सजाने में, 9% पैसा इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स में, 9% पैसा इवेंट्स में और करीब 6% पैसा लग्जरी घड़ियां खरीदने में खर्च करते हैं. जिन लोगों पर यह सर्वे किया गया है उनमें करीब 47% लोग 40 साल की उम्र के नीचे थे.

कैसे रहते हैं इतने फिट?

लोगों के मन में सवाल ये भी उठता है कि आखिर ये अरबपति लोग इतने फिट और खूबसूरत कैसे दिखते हैं. करीब 76 फीसदी अरबपति लोग योगा करते हैं, ताकि खुद को फिट रख सकें. 31 फीसदी लोग अपने खाने का विशेष ख्याल रखते हैं और लगभग 38 फीसदी लोग क्रॉसफिट जिम में अपना पसीना बहाते हैं और फिट बने रहते हैं.

इन गैजेट्स और ऐप के दीवाने होते हैं अरबपति

रिपोर्ट की मानें तो अरबपति लोगों में से करीब 51 फीसदी ब्लड ग्लूकोज मीटर गैजेट का इस्तेमाल करते हैं यानी अधिकतर अरबपति डायबिटीज के मरीज हैं. लगभग 45 फीसदी लोग फिटबिट डिवाइस पहनते हैं, जो उनकी एक्टिविटीज को ट्रैक करता है. अरबपति लोगों को नींद भी कम आती है, इसका पता इस बात से चलता है कि करीब 34 फीसदी लोग स्लीप हेडफोन का इस्तेमाल करते हैं. 34 फीसदी लोग माईफिटनेस पाल ऐप का इस्तेमाल करते हैं जो खाने-पीने को ट्रैक करता है, जबकि 25 फीसदी अरबपतियों के फोन में आपको फिजिकल एक्टिविटी ट्रैक करने वाला रनकीपर ऐप मिल जाएगा.

ऐसे-ऐसे शौक पालते हैं अरबपति

अमेरिकी की मशहूर फोटोग्राफर लॉरेन ग्रीनफील्ड ने साल 1992 में दुनियाभर के अमीर लोगों के लाइफस्टाइल को अपने कैमरे में कैद करने का एक प्रोजेक्ट शुरू किया था. उन्होंने अपने जीवन के 25 साल इसी काम में बिता दिए और फिर जो तस्वीरें दुनिया के सामने आईं उनसे अरबपति लोगों की लग्जरी जिंदगी की कई बातें साफ हो गईं. जिनके पास अथाह पैसा होता है वह उन्हें खर्च करने के लिए कैसे-कैसे शौक पालते हैं, ये आपको इस तस्वीर से ही साफ हो जाएगा.

 

Show Buttons
Hide Buttons