शुगर को जड़ से दूर भगाने का रामबाण नुस्खा | Myrichbeauty.com - Beauty Tips In Hindi

वैसे तो मधुमेह एक सामान्य बीमारी है लेकिन यह हो जाए तो इससे छुटकारा पाना बहुत मुश्किल होता है अपने जीवन में कुछ बदलाव करके इससे बचा जा सकता है इस बीमारी में  रक्त में ग्लूकोज सामान्य रूप से ज्यादा हो जाता है और शरीर में इसका उपयोग कम हो पाता है और यह ग्लूकोज लेवल शरीर में बना रहे तो शरीर के अंगों को नुकसान पहुंचाना शुरू करता है कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं जिससे यह रोग नियंत्रण में रह सके मधुमेह के मरीजों को अपने खानपान का विशेष रुप से ध्यान रखना चाहिए और यदि अपने खानपान का ध्यान रखेंगे तो निश्चित रुप से उनका मधुमेह है कंट्रोल में रहेगा उन्हें मोटा अनाज दाल अपने भोजन में सम्मिलित करने चाहिए जिससे उनकी सेहत अच्छी रहे आर्टिकल में मधुमेह रोगियों के लिए कुछ घरेलू उपायों के बारे में बात करेंगे

मधुमेह होने के कारण :-

  • खानपान में ध्यान ना देना
  • भारी भोजन का सेवन अधिक करना
  • चाय दूध आदि में चीनी का ज्यादा सेवन करना
  • कोल्ड ड्रिंक और सॉफ्ट ड्रिंक
  • शारीरिक परिश्रम ना करना
  • मोटापे से भी मधुमेह की समस्या होती है
  • तनाव में रहने से भी मधुमेह होता है
  • अनुवांशिकता मधुमेह का कारण हो सकता है

डायबिटीज के लक्षण :-

  • प्यास ज्यादा लगना
  • बार-बार वॉशरूम जाना
  • सामान्य से ज्यादा भूख लगना
  • बिना काम किए भी थकान होना
  • शरीर में कहीं चोट लगने पर जल्दी ठीक ना होना
  • त्वचा पर बार बार इन्फेक्शन का होना भी मधुमेह के लक्षण

आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो अपने खून की जांच अवश्य कराएं  और चिकित्सक के निर्देशानुसार ही दवाइयों का सेवन करें

नुस्खा :-

  • करेले का जूस
  • आंवले का जूस

विधि :-

करेले का जूस आंवले के जूस में मिलाकर 100 से 125 ml की मात्रा में सुबह शाम खाली पेट ले साथ ही कली करेले की सब्जी भी बना कर उसका सेवन करें

मधुमेह के लिए अन्य उपाय :-

  • मेथी दाना मधुमेह में बहुत उपयोगी रहता है इसके लिए एक या दो चम्मच मेथी दाना को एक गिलास पानी में रात में  भिगो दें और सुबह मेथी को चबा चबा कर खाएं मेथी को पानी को पी लीजिए 
  • जामुन का फल खाने में स्वादिष्ट होता है और शुगर की तकलीफ में लाभदायक होता है इसके लिए जामुन के सीजन में जामुन के फल खाएं और तथा सीजन ना होने पर जामुन की गुठली का चूर्ण सुबह शाम खाली पेट पानी से ले सकते हैं
  • बाज़ार में मौजूद सभी सब्ज़ियों में ब्रोकली मधुमेह से ग्रस्त रोगियों के लिए श्रेष्ठ है। इस सब्ज़ी में सल्फोराफेन की मात्रा होती है जो शरीर में कई प्रक्रियाओं की शुरुआत करती है, जो सूजन कम करके शरीर में चीनी के नियंत्रण की प्राकृतिक प्रक्रिया में मदद करती है। यह यौगिक रक्त की धमनियों को भी क्षतिग्रस्त होने से बचाता है, जिसका कारण रक्त में चीनी की उच्च मात्रा का होना है।
  • पालक मधुमेह की संभावना को कम करता है, अतः ना सिर्फ यह मधुमेह रोगियों, बल्कि मधुमेह के संभावित मरीज़ों के लिए भी आदर्श पत्तेदार सब्ज़ी है। पालक विटामिन के के साथ ही कई अन्य आवश्यक विटामिन्स एवं खनिज पदार्थों से भरपूर होता है जो शरीर का प्राकृतिक हार्मोनल नियंत्रण बनाये रखने में मदद करते हैं। पालक में मौजूद लुटेन एवं ज़ियाक्सान्थिन के साथ मौजूद अन्य फ्लैवोनॉइड्स एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं और लिवर पर ऑक्सीडेटिव तनाव कम करने में मदद करते हैं, जो शरीर में इन्सुलिन का स्तर नियंत्रित रखने में मददगार साबित होता है।
  • करेला मधुमेह से ग्रस्त रोगियों के लिए एक बेहतरीन भोजन होता है क्योंकि यह शरीर में इन्सुलिन का स्तर बढ़ाने में काफी मददगार साबित होता है। इसमें शैरैंटीन नामक एक यौगिक होता है जो रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर कम रखने में मदद करता है तथा रक्त में चीनी की मात्रा को नियंत्रित रखता है।
  • गाजर भले ही ज़मीन के नीचे उगाया जाता है, पर यह मधुमेह से ग्रस्त रोगियों के लिए काफी अच्छा खाद्य पदार्थ होता है। गाजर में मौजूद बीटा कैरोटीन की उच्च मात्रा ना सिर्फ दृष्टि की शक्ति बढ़ाती है, बल्कि टाइप 2 मधुमेह का खतरा कम करने के लिए भी जानी जाती है। अतः अपने दैनिक खानपान में 2 से 3 ताज़ा गाजर शामिल करना काफी महत्वपूर्ण एवं उपयोगी है।
  • बीन्स में काफी अधिक मात्रा में मौजूद प्रोटीन्स एवं फाइबर मधुमेह से ग्रस्त रोगियों के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। शोधों से पता चला है कि रोज़ाना एक कप बीन्स का सेवन करने से ब्लड शुगर एवं रक्तचाप नियंत्रित करने में काफी आसानी होती है। बीन्स में मौजूद फाइबर की उच्च मात्रा रक्त में कोलेस्ट्रॉल कम करने में भी सहायक सिद्ध होती है। मधुमेह के रोगियों के लिए किसी भी तरह के बीन्स जैसे किडनी सफ़ेद, काले, गर्बांज़ो, लिमा या पिंटो फायदेमंद साबित होते हैं।
  • सेब शरीर को काफी मात्रा में पोषक तत्व एवं स्वास्थ्यकर फाइबर प्रदान करने के साथ ही मधुमेह से काफी सुरक्षा प्रदान करते हैं। शोधों से पता चला है कि रोज़ाना 1 सेब खाने से टाइप 2 मधुमेह का खतरा कम होता है तथा मधुमेह के मरीज़ों में ब्लड ग्लूकोज़ स्तर बरक़रार रखने में सहायक होता है।
Show Buttons
Hide Buttons