गुणकारी मेथी दाना के फायदे | Myrichbeauty.com - Beauty Tips In Hindi

मेथी के दाने हर घर में आसानी से पाए जाते हैं यह आयुर्वेदिक दवाइयों में भी प्रयोग किए जाते हैं यह हमारे शरीर के पाचन क्रिया को दुरुस्त रखते हैं यह बीमारियों को दूर करने में भी काम आते हैं डायबिटीज मोटापा कम करने के लिए काफी असरदार है आज इस आर्टिकल में हम मेथी के फायदे और  मेथी से बने कुछ नुस्खों के बारे में बात करेंगे मेथी में एंटीऑक्सीडेंट विटामिन पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार होते हैं प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं

नुस्खा :-

  • 20 ग्राम मेथी के बीज
  • 20 ग्राम हल्दी
  • 10 ग्राम सोंठ

विधि :-

मेथी के बीज हल्दी और सोंठ को मिलाकर उसका पाउडर बना लीजिए इसको सुबह शाम पानी के साथ  लेने से आपको हर प्रकार के शरीर के दर्द से छुटकारा मिलेगा

मेथी के फायदे बालों के लिए :-

  • मेथी के पत्तो को रातभर के लिये पानी में भिगो कर रख दें और सुबह उसका पेस्‍ट तैयार कर लें। इस पेस्‍ट को गीले बालों पर हेयर पैक की तरह लगाएं और 30 मिनट के बाद ठंडे पानी से सिर को धो लें। मेथी को पानी में उबाल कर इस पानी से बालों को धोये इससे बाल रूसी रहित और कोमल काले चमकते हो जायेंगे |
  • मेथी के दानों को गर्म नारियल के तेल में भिगोकर रखें और सुबह नहाने से पहले 5 से 10 मिनट तक इसी तेल को अच्छी तरह बालो की जड़ों में लगायें उसके बाद ही आप गर्म पानी से नहाए | इससे बाल काले घने और मजबूत हो जायेंगे |
  • मेथी पाउडर को जैतून के तेल में मिलाकर लगाने से भी बालों को बहुत लाभ होता है |

त्वचा के लिए मेथी के फायदे :-

  • मेथी के दानों को रात भर भिगोकर इसको पीसकर पेस्ट बना ले दो चम्मच इस पेस्ट में दही मिला ले इसे चेहरे पर किसी रूई से लगाने से आधे घंटे बाद धो ले | दस बारह दिनों तक उपाय का प्रयोग करें इससे रूखी त्वचा, मुहांसे और झाइयाँ दूर हो जाएगी |
  • मेथी के पत्तों के रस में नींबू का रस मिलाकर शरीर पर मलने से त्वचा में निखार आता है और त्वचा कोमल होती है

मेथी के अन्य फायदे :-

  • मेथी के पत्तो के रस में काले अंगूर पीसकर पानी में मिलाकर सेवन करने से खून की कमी यानि एनीमिया रोग में बहुत लाभ होता है।
  • मेथी अच्छे कोलेस्ट्रॉल एचडीएल’ में बिना किसी प्रकार का परिवर्तन किये सीरम टोटल कोलेस्ट्रॉल, एलडीएल/वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लाइसेराइड को कम करती है। मेथी में पाया जाने वाला डायस्जेनिम रसायन कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम करने में उपयोगी है। इस तरह यह हृदयरोगियों के लिए बहुत लाभकारी सब्जी है।
  • मेथी का 150 ग्राम रस कुछ दिनों तक सेवन करने से खून साफ़ हो जाता है जिससे अनेक रक्त विकार, फोड़े-फुसियां व खाज-खुजली आदि ठीक होते हैं।
  • लगभग 25 ग्राम मेथी के दानों को आधा गिलास पानी में भिगोयें, 12 घण्टे बाद मेथी को छानकर अंकुरित करके खायें और पानी को गर्म करके पियें। यह मेथी का सबसे बेहतरीन औषधीय उपयोग है। खाने के 10 मिनट पहले मेथी के पाउडर की फंकी भी लें।
  • दो चम्मच मेथी और बूरा की फंकी लें। इस नुस्खे को रोजाना लेने वाले व्यक्ति इन रोगों से हमेशा दूर जैसे -लकवा, हृदय रोग, हाई और लो बीपी, मधुमेह, गठिया, जोड़ों का दर्द, बाय, साँस की बीमारी, और हड्डी का बुखार इत्यादि। इसके प्रयोग का कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता तथा इसके साथ परहेज भी कोई नहीं है। मेथीदाना के सेवन से नस-नाड़ियों का रूकावट दूर हो जाती है।
  • मेथी के दानों को 30 ग्राम मात्रा में रात को पानी में डालकर रखें। सुबह उठकर मेथी के दानों को थोड़ा-सा मसलकर, पानी को छानकर थोड़ा-सा गर्म करके पीने से गठिया रोग में बहुत लाभ होता है।
  • तीन चम्मच मेथी के दानों को दो कप पानी में दोपहर में भिगो दें। रात को इसी पानी में उबालकर एक कप पानी रहने पर छानकर स्वादानुसार शहद मिलाकर सोते समय हर रोज कुछ सप्ताह तक पीते रहें। इससे कफ, दमा, फेफड़े के रोग, टी.बी., शराब पीने के दुष्प्रभाव, गठिया, आमवात, जलोदर, एनीमिया, कमर-दर्द, अनियमित माहवारी आदि में लाभ होता है।
  • मेथी के पत्तो का रस 50 ग्राम और चीनी 5 ग्राम मिलाकर सेवन करने से दस्त की बीमारी में लाभ मिलता है। इसका दिन में दो-तीन बार सेवन करना चाहिए।
  • 20 ग्राम मेथी के दानों को 300 ग्राम पानी में उबालकर क्वाथ बनाएं। इस क्वाथ को छानकर पीने के बाद, ऊपर से दूध पीने से अर्श रोग ठीक होता है। रक्तस्त्राव भी जल्द ही बंद होता है।
  • मेथी के पत्तो की सब्जी बनाकर खाने से कब्ज भी ठीक होती है।
  • कमर में दर्द होने पर मेथी के दानों का चूर्ण बनाकर 3 ग्राम चूर्ण हल्के गर्म जल के साथ दिन में दो बार सेवन करने से बहुत लाभ होता है।
  • ब्लड शुगर को पूरी तरह नियंत्रित करने के लिए मेथी अत्यन्त कल्याणकारी औषधि है। शरीर में उत्पन्न होने वाले इन्स्युलिन की मात्रा को बढ़ाती है साथ ही ब्लड शुगर के बढ़ते हुए स्तर को कम करती है |
  • मधुमेह में दो चम्मच पिसे हुए मेथी के दानों और एक चम्मच सौंफ रात को 200 ग्राम पानी में भिगोकर सुबह पानी को छानकर कर पियें। इस प्रकार मेथी का सेवन गर्म तासीर वाले रोगी करें। इसके अतिरिक्त -25 से 100 ग्राम मेथी के दानों लेकर इसकी किसी भी तरह की सब्जी बनाकर, पीसकर आटे में मिलाकर रोटी बनाकर, दानों की फंकी किसी भी तरह ले सकते हैं। चार चम्मच मेथी दाना की रोजाना तीन बार लेने से खून में ग्लूकोज की बढ़ी मात्रा पर नियंत्रण हो जाता है। यदि मधुमेह की कोई औषधि ली जा रही हो तो उसके साथ मेथी दाना लेने से और जल्दी फायदा होगा।
  • मेथी के दानों का एक इंच मोटा तकिया बनवाकर अपने तकिये पर यह तकिया रखें। इसे सिर के नीचे लगाकर सोयें। गहरी निद्रा आयेगी।
  • हल्दी, गुड़, पिसे मेथी के दानों को पानी की समान मात्रा में मिलाकर गर्म करके इनका लेप गर्म-गर्म रात को घुटनों पर करें। पट्टी बाँधकर रात को बँधी रहने दें। सुबह पट्टी खोलें। साथ ही पिसी मेथी दाना एक चम्मच खाली पेट गुनगुने पानी के साथ नियमित लें लाभ होगा।
  • एक चम्मच मेथी के दानों को फंकी गर्म दूध से लेने से पेट की चिकनाई साफ होकर गैस की समस्या कम हो जाती है।
  • मेथी वायुनाशक, पित्तनाशक और पौष्टिक होती है। मेथी का रस पीने या सब्जी बनाकर सेवन करने से वायु विकार और पित्त विकार ठीक होते हैं।
  • शिशु को स्तनपान कराने वाली स्त्रियों को प्रतिदिन मेथी का रस या मेथी की सब्जी का सेवन करना चाहिए। मेथी के रस के सेवन से स्तनों में दूध का विकास होता है।
  • सर्दियों में मेथी की सब्जी खाने से वात विकार, संधिशूल और सूजन ठीक होते हैं ।
Show Buttons
Hide Buttons