घरेलू नुस्खों से सर्दी खांसी जुकाम को दूर भगाएं | Myrichbeauty.com - Beauty Tips In Hindi

वैसे तो सर्दी जुखाम खासी एक आम समस्या है पर यदि यह हो जाए तो सब कुछ बहुत बुरा लगता है बदलते मौसम में यह समस्याएं होना आम बात है नाक बंद होना यह सांस लेने में मुश्किल होना गले में कुछ चुभना या दर्द होना खांसी के साथ बलगम आना यह खांसी जुकाम के लक्षण है यह मौसम के बदलने से हल्के दर्द के साथ होता है और फिर बुखार भी हो जाता है ज्यादातर यह 2 से 3 दिन में ठीक हो जाता है नहीं तो इसको ठीक होने में एक हफ्ता भी लग सकता है आप इससे को ठीक करने के लिए घरेलू उपाय को अपना सकते हैं

सर्दी जुकाम होने के कारण :-

  • कमरे में सीलन या घुटन होने की वजह से सर्दी जुकाम होता है
  • तेज धूप के आने के बाद ठंडा पानी पीने से सर्दी जुकाम होता है
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से सर्दी जुकाम होता है
  • धूल मिट्टी के नाक में जाने से भी सर्दी खांसी की समस्या होती है
  • हाथ साफ किए बिना खाना खाने से किताबों शरीर में पहुंचते हैं और सर्दी जुकाम खांसी की समस्या होती है

नुस्खा :-

  • एक चम्मच अदरक का रस
  • चुटकी भर काली मिर्च का पाउडर
  • एक चुटकी हल्दी
  • एक चम्मच शहद

विधि :-

सारी सामग्रियों को अच्छे से मिला लें फिर एक उसका गाना पेस्ट बनाएं और इससे टॉफी का आकार दे अपने मुंह में डालें 10 से 15 मिनट तक इसे चूसते रहे खांसी बुखार जुखाम से जल्द राहत पाने के लिए दिन में दो से तीन बार इसको जरूर दोहराएं

खांसी जुखाम बुखार दूर करने के अन्य उपाय :-

  • नियमित रूप से गुनगुने पानी का सेवन करें क्योंकि यह सामान्य सर्दी, खांसी एवं गले की खराश से लड़ने में आपकी सहायता करता है। गर्म पानी गले में सूजन को कम करता है एवं शरीर में खोये हुए द्रव्यों की मात्रा की पूर्ति करने एवं शरीर से संक्रमण बाहर निकालने में मदद करता है।
  • अजवाइन अपने जीवाणुरोधक एवं एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) गुणों के लिए जाना जाता है। केवल यह सुनिश्चित करें कपड़ा ज़्यादा गर्म ना हो, अन्यथा इससे आपकी त्वचा जल भी सकती है। अच्छे परिणामों के लिए इस प्रक्रिया का पालन 2-3 दिनों के लिए करें। पोटली से गर्म अजवाइन की सुगंध आपकी छाती में मौजूद कफ़ को भी दूर करेगी।
  • अजवाइन अपने जीवाणुरोधक एवं एंटीबैक्टीरियल गुणों के लिए जाना जाता है। केवल यह सुनिश्चित करें कपड़ा ज़्यादा गर्म ना हो, अन्यथा इससे आपकी त्वचा जल भी सकती है। अच्छे परिणामों के लिए इस प्रक्रिया का पालन 2-3 दिनों के लिए करें। पोटली से गर्म अजवाइन की सुगंध आपकी छाती में मौजूद कफ़ को भी दूर करेगी।
  • सर्दी और खांसी में काली मिर्च का प्रयोग बहुत लाभदायक होता है. शहद वैसे ही प्राकृतिक रूप से एंटीओक्सिडेंट का काम करता है और हमारी इम्युनिटी को मजबूत करता है जिससे हम रोगों का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं. 6 से 8 काली मिर्च को पीस कर चूर्ण बना लें इसे शहद के साथ मिलाकर सुबह खाली पेट या रात को सोने के पहले लें. इसके सेवन के आगे पीछे आधे घंटे पानी नहीं पीना चाहिए.
  • हरितकी आयुर्वेद में एक जाना पहचाना नाम है जिसका प्रयोग खास तौर पर त्रिफला चूर्ण बनाने में किया जाता है इसके अलावा भी यह स्वयं में एक चमत्कारिक औषधि है जिसका पेड़ भारत के जंगलों में बहुतायत में पाया जाता है. हरितकी के सूखे हुए फल बाज़ार में भी आसानी से मिल जाते हैं. खासी के इलाज के लिए हरितकी या हर्रे के सूखे फल को पीस कर चूर्ण बना लें और इसे शहद के साथ मिला कर सेवन करें. इसके अलावा सूखे हर्रे या हरितकी को भुन कर इसे टुकड़े को चूसने से भी खांसी सर्दी में राहत मिलती है और अन्दर जमा बलगम निकल जाता है. इसे चूसकर इसके रस को निगल लेना चाहिए.
  • दूध और हल्दी सर्दी और खांसी के सबसे असरदार इलाजों में से एक है। इसके लिए दूध को गर्म करें और इसमें हल्दी का पाउडर मिश्रित करें। यह खांसी का भी रामबाण इलाज साबित होता है। यह मिश्रण ना सिर्फ वयस्कों, बल्कि बच्चों के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होता है। सर्दी खांसी के अलावा सामान्य स्वास्थ्य बरक़रार रखने के लिए भी यह मिश्रण काफी असरदार साबित होता है। अतः जब भी आप अस्वस्थ महसूस करें तो इस मिश्रण का रोजाना सेवन करके अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करें।
  • एक कढ़ाही लें और इसमें थोड़ा सा शहद डालें। शहद को तब तक डालते रहें जब तक कि आधी कढ़ाही भर ना जाए। इसके बाद एक डबल बायलर का प्रयोग करें और शहद को पतला बनाने का प्रयास करें। इसमें थोड़ा सा नींबू और एक चुटकी दालचीनी मिलाएं। इस सिरप का सेवन अपने बच्चे को करवाएं तथा उसे सर्दी खांसी और ज़ुकाम से बचाकर रखें।
  • सामान्य सर्दी और खांसी से लड़ने के लिए आप शहद और ब्रांडी का भी प्रयोग कर सकते हैं। ब्रांडी से आपकी छाती गर्म रहती है और इससे शरीर के ताप को बढाने में भी काफी मदद मिलती है। इसी के साथ साथ, शहद में कफ से लड़ने के प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं। अतः जब यह ब्रांडी के साथ मिश्रित हो जाती है तो इसका प्रभाव काफी अच्छा होता है। इस मिश्रण की मदद से आप आसानी से सर्दी और ज़ुकाम से प्रभावी रूप से निपट सकते हैं।
  • आंवले को इम्यूनोमोड्यूलेटर कहा जाता है और यह आपको कई प्रकार की बीमारियों से ग्रसित होने से बचाता है। आंवले में विटामिन सी की काफी मात्रा होती है और यही कारण है कि यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है। जब आप आंवले का नियमित रूप से सेवन करते हैं तो आपका लिवर अच्छे से कार्य करता है और इससे आपके रक्त का संचार भी काफी अच्छे से होता है। आंवला आपकी प्रतिरोधक क्षमता को काफी मज़बूत कर देता है और यही कारण है कि आपको इसका सेवन रोज़ करना चाहिए। यह सामान्य कफ और ठण्ड से लड़ने का काफी प्रभावी तरीका है।
  • शहद, नींबू के रस तथा गर्म पानी का मिश्रण सामान्य सर्दी और खांसी की समस्या को दूर करने का काफी अच्छा उपाय है। आप नींबू पानी का सेवन करके अपना हाजमा भी दुरुस्त कर सकते हैं। यह शरीर के रक्त संचार के लिए भी काफी प्रभावी साबित होता है। जब आप शहद और नींबू पानी को आपस में मिलाते हैं, तो इस समय पानी गर्म होना चाहिए। इससे सर्दी और खांसी के समय काफी आराम प्राप्त होता है। ये वैसे पदार्थ हैं, जो आपकी समस्या का निदान करने में सक्षम हैं।
Show Buttons
Hide Buttons